About Us

About Us

माता भगवती देवी, देव संस्कृति महिला कृषि महाविद्यालय

इतने रतन दिए है कैसे जिससे देश महान है| भारत की परिवार परंपरा ही रत्नों की खान है|

वेदमाता गायत्री ट्रस्ट सीसवाली को माता भगवती देवी देव संस्कृति महिला कृषि महाविद्यालय की स्थापना की प्रेरणा शांतिकुंज हरिद्वार द्वारा परम श्रद्धेय डॉ. सा. प्रणव पंड्या जी के निर्देशानुसार देव संस्कृति विश्वविद्यालय बनाया गया तथा देश में 500 महाविद्यालय बनाने का संकल्प से ली गई|
इसी क्रम में वेदमाता गायत्री ट्रस्ट सीसवाली द्वारा वर्ष 2002 में बसंत पंचमी को भूमि पूजन क्र कला संकाय का प्रथम महिला महाविद्यालय के निर्माण कार्य का शुभारंभ जन सहयोग के विशेष संकल्प के साथ शुरू किया गया| जन सहयोग उन परिजनों से लिया गया जो महाविद्यालय की भूमि पर आकर अपने परिवार के व्यसन मुक्त परिजन से गायत्री मंत्र जप करवा देंगे|
इस ट्रस्ट के प्रथम कला महाविद्यालय का शिलान्यस 22 जनवरी 2008 को 251 कुंडी गयात्री महायज्ञ में सन 2008 में परम श्रध्देय डॉ. सा प्रणव जी कुलाधिपति देव संस्कृति विश्वविद्यालय, शांतिकुंज हरिद्वार व अखिल विश्व गायत्री परिवार की संचालिका वेद माता गयात्री ट्रस्ट की प्रबंधक ट्रस्टी परम श्रध्देय शैल दीदी के कर कमलो से हुआ|
सन 2012 में जुलाई सत्र से राज्य सरकार व कोटा यूनिवर्सिटी से आदेश प्राप्त कर माता जी श्री परम श्रध्देय भगवती देवी के नाम पर - माता भगवती देवी देव संस्कृति महिला महाविद्यालय में छात्राओं के निशुल्क आवासीय शिक्षण का शुभारंभ कर महाविद्यालय में निरंतर गुणवत्तायुक्त महिला शिक्षा जारी है|

वेदमाता गयात्री ट्रस्ट सीसवाली को राज्य सरकार द्वारा वर्ष 2017-18 के लिए महिला कृषि महाविद्यालय खुलनेकी अनुमति प्राप्त हुई, जिसका नामकरण माता भगवती देवी देव संस्कृति महिला कृषि महाविद्यालय किया जाकर इसकी सम्बद्धता कृषि विश्वविद्यालय, कोटा से की गई है|

महाविद्यालय में भारतीय कृषि अनुसंधान नई दिल्ली एवं कृषि विश्वविद्यालय , कोटा निर्देशानुसार कृषि स्नातक (आनर्स) का पाठ्क्रम सत्र 2017-18 से चलाया जायेगा| महाविद्यालय में प्रवेश राज्य के अन्य कृषि विश्वविद्यालयो/महाविद्यालयो के प्रवेश प्रक्रिया के अनुरूप जे.ई.टी. (संयुक्त प्रवेश परीक्षा) के माध्यम से किया जावेगा| महाविद्यालय में 70 छात्राओ के निवास की व्यवस्था है जिसे जुलाई 2017 तक बढ़ाकर 120 तक कर दिया जावेगा| महाविद्यालय के छात्रावास में रहने वाली छात्राओ को निःशुल्क आवास व भोजन की सुविधा सुनिशिचित की जावेगी| महाविद्यालय का संचालन गयात्री परिवार के देशव्यापी सदस्यों के आर्थिक सहयोग से किया जा रहा है| प्रथम वर्ष में महाविद्यालय में 60 छात्राओ को प्रवेश दिया जावेगा|

© 2017 Mata Bhagwati Devi. All Rights Reserved | Design by Sunshine IT Solution